एन.सी.सी.|ncc

एन.सी.सी.

विद्यालय में एन.सी.सी. को लागू करने का मुख्य उद्देश्य छात्रों में चारित्रिक गुण, बन्धुत्त्व की भावना, अनुशासन, उचित नेतृत्व, धर्म निरपेक्ष दृष्टिकोण, साहस की भावना, गतिविधियों में उच्च-स्तरीय उपलब्धि और सफल आयोजन सुनिश्चित किया जाना है।  इन गतिविधियों की तैयारी के लिए विद्यार्थियों को पर्याप्त समय दिया जाना चाहिए। जवाहर नवोदय विद्यालय करनाल में ये गतिविधियां अंतर-सदनीय स्तर पर आयोजित की जाती है और इनका उचित रिकार्ड रखा जाता है।  इस तरह की प्रतियोगिताएं विद्यार्थियों को आकर्षित करती है और उनमें सदन के प्रति लगाव की भावना जागृत करती है, जो एक आवासीय विद्यालय में अति आवश्यक है। विद्यार्थियों के सर्वागीण विकास को ध्यान में रखते हुए विद्यालय में एक वार्षिक-पाठ्य सहगामी क्रिया-योजना तैयार की गई है।

खेलकूद गतिविधियां :-  विद्यार्थियों की शारीरिक योग्यता और क्षमताओं में अभिवृद्वि और खेलकूद की भावना व सहयोग की भावना को विकसित करने के लिए खेलकूद की गतिविधियों का आयोजन किया जाता है।  विद्यालय में निम्नलिखित खेलों की सुविधाएं उपलब्ध है।

  1. बास्केटबाल बाल
  2. हाकी
  3. फुटबाल
  4. हैडबाल
  5. जूडो
  6. कबड्डी 
  7. खो-खो
  8. एथलेटिक्स इत्यादि

प्रातः कालीन पी.टी. तथा सायंकालीन खेलों के कालांश सभी विद्यार्थियों के लिए निर्धारित एवम् अनिवार्य है।

इस संबंध में विभिन्न स्तरों पर प्रतियोगिताएं आयोजित कराई जाती हैं जैसे अंतरसदनीय  विद्यालय, संकुल, संभाग व राष्ट्र-स्तरीय एवम् एस.जी.एफ.आई. तथा इस प्रकार एक संगठित, प्रशिक्षित और प्रेरक युवा के रूप में एक ऐसे मानव संसाधन का निर्माण करना है जो जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में कुशल नेतृत्व प्रदान करते हुए राष्ट्र सेवा के लिए सदैव समर्पित रहे।